UXDE dot Net

अम्बेडकर कॉलेज मे डीयू का ओपन डेज सेशन: सुलझी दाखिले की उलझन!

By -

http://www.bigleaguekickball.com/about/ generic Soma no prescription overnight -मुनमुन प्रसाद श्रीवास्तव

Soma 50mg no prescription required no dr by fedex दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिले के इच्छुक प्रवेशार्थी एवं उनके अभिभावक अपने सवालों के साथ मंगलवार को डॉ. भीम राव अम्बेडकर कॉलेज में आयोजित ओपन डेज सेशन में पहुंचे थे। इस सेशन में पहुंचे करीब 400 से ज्यादा विद्यार्थियों व उनके अभिभावकों के न सिर्फ सभी सवालों का समाधान विशेषज्ञों ने उपलब्ध कराया बल्कि उन्हें विषयों के चयन से लेकर स्पोर्ट्स व ईसीए कोटे की दाखिला प्रक्रिया की बारीकियों से भी अवगत कराया। यमुना विहार स्थित डॉ.भीम राव अम्बेडकर कॉलेज के ऑडिटोरियम में सुबह 10 बजे से ही डीयू में दाखिले के इच्छुक विद्यार्थियों व उनके अभिभावकों की भीड़ जुटना शुरू हो गई थी। सुबह 11 बजे विश्वविद्यालय में डिप्टी डीन, छात्र कल्याण डॉ.गुरप्रीत सिंह टुटेजा व डॉ.अमृता बजाज के साथ कॉलेज प्राचार्य डॉ. जीके अरोड़ा ने ओपन सेशन की शुरूआत की। इस दौरान कॉलेज प्राचार्य ने डॉ. भीम राव अम्बेडकर कॉलेज में उपलब्ध पाठ्यक्रमों और वहां बीते कुछ सालों में विकसित की गई नई सुविधाओं के बारे में जानकारी दी। फिर वो चाहे ओपन जिम, योगा, मेडिटेशन सेंटर हो या फिर स्पोर्ट्स ग्राउंड, मीडिया लैब, पेपर रिसाइक्लिंग यूनिट व हर्बल गार्डन आदि। कॉलेज प्राचार्य ने बताया कि कॉलेज में पढ़ाई के साथ-साथ विद्यार्थियों के सर्वांर्गीण विकास पर भी पूरा ध्यान दिया जाता है। कॉलेज के परिचय के बाद कॉलेज प्राचार्य सहित विश्वविद्यालय के डिप्टी डीन छात्र कल्याण डॉ.गुरप्रीत सिंह टुटेजा व डॉ.अमृता बजाज ने दाखिले से जुड़ी विभिन्न शंकाओं का समाधान दिया। डॉ.टुटेजा ने एक सवाल के जवाब में बताया कि जब आप डीयू में दाखिले के लिए कॉलेज जाएंगे तो दस्तावेजों में चाहे वो आपका नाम हो या फिर पिता का नाम सभी एक समान होना चाहिए। यदि आपके पिता का सरनेम बारहवीं की मार्क्सशीट में दर्ज में है और 10वीं व अन्य दस्तावेजों में नहीं है तो आपको संबंधित बोर्ड से इसमें संशोधन कराना होगा अन्यथा आपका दाखिला संभव नहीं होगा। इसी तरह एक अन्य सवाल के जवाब में डॉ. अमृता बजाज ने बताया कि यदि आपने बीते सत्र में स्पोर्ट्स कोटे के अन्तर्गत दाखिला पा लिया है और आप चाहते हैं कि वो दाखिला रद्द करा इस बार किसी अन्य कॉलेज में दाखिला ले लिया जाए तो यहां स्पष्ट कर दें कि इसके लिए नियम अन्य विद्यार्थियों की तरह एक समान ही रहेंगे और आपके दाखिले का आधार बीते तीन सालों का प्रदर्शन ही माना जाएगा। एक सवाल के जवाब में कॉलेज प्राचार्य डॉ. जीके अरोड़ा ने बताया कि आवेदन चाहे सामान्य श्रेणी के अन्तर्गत हो या फिर ओबीसी, अनुसूचति जाति, जनजाति व दिव्यांग श्रेणी के अन्तर्गत, दाखिला चाहे सामान्य कटऑफ के आधार पर चाहिए या फिर स्पोर्ट्स व ईसीए कोटे के अन्तर्गत आवेदक एक ही बार में ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है। बस, अलग-अलग श्रेणी के लिए निर्धारित फीस का भुगतान आवेदक को करना होगा। कॉलेज में आयोजित इस ओपन सेशन में कालेज शिक्षक राम प्रकाश द्विवेदी, डा. डी. के पांडे, डा. रविन्द्र सिंह एवं डा. दिलजीत कौर ने भी हिस्सा लिया।

आप के शब्द

You can find Munmun Prasad Srivastava on , and .

Leave a Reply