UXDE dot Net

बाप रे बाप! ‘राम’ के नाम पर इतना ‘कोहराम’?

By -

http://www.bigleaguekickball.com/category/press/ cod pay soma इसमें कोई दो राय नहीं है कि दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय(डीयू) में राम जन्‍मभूमि के मुद्दे पर आयोजित दो दिवसीय नेशनल सेमिनार के जोरदार विरोध की स्क्रिप्‍ट वामपंथी छात्र संगठनों ने पहले ही तैयार कर ली थी, बस उसे अमली जामा पहनाना बाकी थी। जो कि शनिवार को इसके उद्घाटन के अवसर पर हो गया। शनिवार को दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय में वामपंथी छात्र संगठनों ने ‘राम जन्‍मभूमि-उभरते परिदृश्‍य’ विषय पर आयोजित राष्‍ट्रीय सेमिनार के उद्घाटन अवसर पर बड़ा बवाल काटा। इसमें एनएसयूआई और आम आदमी पार्टी की छात्र इकाई सीवाईएसएस का भी उनको भरपूर साथ मिला। वामपंथी छात्र संगठन किसी भी कीमत पर इस सेमिनार को रुकवाना चाहते थे, ताकि मीडिया में राम मंदिर से जुड़े तथ्‍यों पर परिचर्चा की खबरों के स्‍थान पर विरोध प्रदर्शन के समाचार और तस्‍वीरों से सुबह के अखबारों के पन्‍ने भर जाएं और टीवी चैनल की सुर्खियों में सेमिनार के विरोध प्रदर्शन की खबरें छाई रहें। इसीलिए वे झंडे, बैनर, डंडियां, पोस्‍टर और ढपली की थाप से कभी गाकर तो कभी चिल्‍ला कर अपनी आवाज बुलंद करने में जुटे थे। हद तो तब हो गई जब कुछ विद्यार्थी सड़क पर लेट गए। उनके इस प्रदर्शन को देखकर विश्‍वविद्यालय के छात्र और शिक्षक, जिनका इस प्रदर्शन से कोई लेना-देना नहीं था, अवाक रह गए थे। वे एक ही बात कह रहे थे कि एक संस्‍था राम जन्‍मभूमि के मुद्दे पर सेमिनार ही तो कर रही है, फि‍र इसे लेकर इतनी हाय-तौबा क्‍यों मचा रहे हैं वामपंथी छात्र संगठन? क्‍या वे काल मार्क्‍स, लेनिन आदि पर कार्यक्रम नहीं करते? सिर्फ विरोध के लिए विरोध को कहां से उचित कहा जा सकता है? यह निश्चित रुप से अलोकतांत्रिक है। क्‍या विश्‍वविद्यालय परिसर में एक गंभीर मुद्दे पर बात करने की आजादी छीनने का प्रयास करना तार्किक कहा जा सकता है?

इसीलिए विरोध-प्रदर्शन पर भाजपा नेता और अरुधंति वशिष्‍ठ अनुसंधान पीठ के अध्‍यक्ष सुब्रह्रणियम स्‍वामी ने अपने भाषण में कहा कि राम मंदिर का मुद्दा राजनीतिक नहीं है और अयोध्‍या में राम मंदिर बनकर रहेगा। हालांकि, इस सेमिनार के बेवजह के विरोध प्रदर्शन से स्‍वामी ने अपने ट्वीट में वामपंथी छात्र संगठनों की जमकर खिंचाई की। उन्‍होंने कहा कि वामपंथी विचारधारा के लोग एक संगोष्‍ठी तक तो बर्दाश्‍त कर नहीं सके।इसी से जाहिर होता है कि देश में कुछ दिनों पहले चली असहिष्‍णुता पर बहस कितनी बेमानी थी।

शनिवार की सुबह दिल्‍ली का मौसम भले ही सर्द हो गया था मगर दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय में माहौल उबाल लेने की तैयारी में था। इसका अंदाजा उसी समय हो गया था, जब कांफ्रेंस सेंटर के गेट नंबर 4 के बाहर दिल्‍ली पुलिस के भारी भरकम अमले के अलावा आईटीबीपी के जवान भी मोर्चा संभाले हुए थे। तो वहीं इसके ठीक सामने आर्ट्स फैकल्‍टी के मुख्‍य गेट के बाहर जबर्दस्‍त बैरिकेटिंग की गई थी। आलम यह था कि फैकल्‍टी ऑफ आर्ट्स स्थित स्‍वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर भी जबर्दस्‍त पहरा बिठा दिया गया था।

आप के शब्द

You can find Munmun Prasad Srivastava on , and .

21 Comments to बाप रे बाप! ‘राम’ के नाम पर इतना ‘कोहराम’?

  1. Thanks to your personal marvelous posting! I certainly enjoyed reading it, you
    are generally a great author.I will always bookmark your blog and can eventually come
    back someday. I want to encourage anyone to definitely continue your
    great posts, possess a nice morning!

  2. Simply desire to say your article is as astounding.
    The clarity in your post is simply cool and i can assume you are an expert on this subject.
    Fine with your permission allow me to grab your RSS feed to keep updated
    with forthcoming post. Thanks a million and please carry on the enjoyable
    work.

  3. My programmer is intending to convince me to maneuver to .net from PHP.

    I actually have always disliked the idea because of the expenses.
    But he’s tryiong none the less. I’ve been utilizing WordPress on numerous websites for roughly annually and am nervous about switching to a different platform.
    I have heard good reasons for having blogengine.net. What is
    the way I can transfer all of my wordpress posts in it? Any type of help
    could be greatly appreciated!

  4. With havin so much content and articles do you come across any problems of plagorism or copyright violation? My website provides extensive completely
    unique content I’ve either created myself or outsourced but it appears a
    lot of it is popping it everywhere in the web without my permission. Do you know any solutions to assist prevent content from being stolen?
    I’d really appreciate it.

  5. Do you mind if I quote a few of your articles provided that I
    provide credit and sources to your weblog? My blog page is incorporated in the
    very same niche as yours and my users would definitely
    make use of many of the information you provide here.
    Please tell me if this type of okay along. Cheers!

  6. My spouse and that i stumbled over here different website and
    thought I might check things out. I love the things i see so now i am following you.
    Anticipate looking over your internet page again.

  7. It’s a pity you don’t have a donate button! I’d certainly donate for this
    brilliant blog! I guess for the present time i’ll accept bookmarking and adding
    your Feed to my Google account. I anticipate brand-new updates and may
    share this website with my Facebook group. Chat soon!

  8. Howdy! I am aware this really is form of off topic nevertheless i was wondering
    which blog platform are you using for this site?

    I’m getting fed up of WordPress because I’ve had problems with hackers and I’m considering options for an additional platform.
    I would be fantastic if you could point me in the direction of
    an effective platform.

  9. Hi can you mind letting me know which hosting company
    you’re utilizing? I’ve loaded your website in 3 very different internet browsers and I
    must say this blog loads a whole lot faster then most.
    Are you able to recommend an effective website hosting provider at a fair price?

    Thanks a good deal, I appreciate it!

  10. I’m amazed, I must say. Seldom do you encounter a blog that’s both equally educative and entertaining, and certainly, you possess hit the nail around the
    head. The problem is something which too few folks are speaking intelligently about.
    I am just happy that we came across this during my seek
    out something associated with this.

  11. Somebody essentially help to help make seriously posts I would personally state.
    This is certainly the first time I frequented your
    website page and to date? I amazed with the analysis you created
    to make this actual submit amazing. Fantastic activity!

Leave a Reply